जनपद शामली में परिषदीय विद्यालयों के अध्यापकों द्वारा ऑनलाइन पढ़ाई की सराहनीय पहल
April 13, 2020 • MOHD. IQBAL HASAN
 

 
- जनपद शामली में ऑनलाइन शिक्षण का शुभारंभ
 
कैराना । वैश्विक महामारी कोविड-19 की इस विषम परिस्थिति के समय स्कूलों में अध्ययनरत बच्चे स्कूली शिक्षा से वंचित हैं। जनपद शामली के परिषदीय विद्यालयों के शिक्षको द्वारा ऑनलाइन पढ़ाई की एक सराहनीय पहल शुरू की गयी हैं।इसके लिए जनपद के  विद्यालयों के शिक्षकों द्वारा बच्चों एवं  अभिभावकों को जोड़कर व्हाट्सएप ग्रुप तैयार किये गये है। बच्चों को घर से ही ऑनलाइन पढ़ाई कराई जा रही है। 
        जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी श्रीमती गीता वर्मा ने बताया कि लॉकडाउन की अवधि में बच्चों के शैक्षिक उन्नयन की हानि को देखते हुए जिलाधिकारी  जसजीत कौर  के द्वारा  स्कूलों के अध्यापकों को बच्चों के लिए ऑनलाइन क्लासेज की पहल शुरू करने के लिए प्रेरणा प्रदान की गई ।इस प्रकार जिलाधिकारी जसजीत कौर के मार्ग दर्शन में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी गीता वर्मा ने अपनी टीम के साथ  यह कार्य वृहद् स्तर  पर, पाठ्यक्रम आधारित ऑनलाइन लर्निंग मटेरियल  तैयार कराकर  जनपद में  शिक्षकों द्वारा अपने विद्यालय के बनाए गए व्हाट्सएप ग्रुप पर नियमित  रूप से प्रतिदिन भेजा जा रहा है। 
     इस मुहिम में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी गीता वर्मा द्वारा  सीबीएसई, आईसीएसई बोर्ड  एवं मान्यता प्राप्त व शासकीय सहायता प्राप्त  विद्यालयों के प्रबंधकों / प्रधानाचार्य से दूरभाष पर वार्ता कर उन्हें अपने विद्यालय के बच्चों के लिए ऑनलाइन क्लासेज चलाने के लिए प्रेरित एवं प्रोत्साहित किया गया है तथा उनके द्वारा भी अपने अधिकांश स्कूलों में भी ऑनलाइन टीचिंग प्रारंभ कर दी गई है।
   उन्होंने बताया कि प्रतिदिन मॉर्निंग सेशन में पाठ्यक्रम आधारित लर्निंग मैटेरियल प्रेषित किया जाता है तथा अध्यापकों द्वारा कार्य करने हेतु विद्यार्थियों की ऑनलाइन सहायता की जाती है तथा उस कार्य की मॉनिटरिंग भी की जाती है तथा गृह कार्य का मूल्यांकन कर आवश्यक ऑनलाइन फीडबैक अध्यापकों द्वारा बच्चों को दिया जाता है।
     जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बताया कि  इस कार्य में जनपद के अभी तक लगभग पच्चीस से तीस प्रतिशत स्कूलों के अध्यापक इस मुहिम में  पूरे मनोयोग से  जुड़कर  ऑनलाइन शिक्षण को क्रियान्वित कर रहे हैं  तथा सभी  अध्यापकों तथा जनपदीय टीम को  यह निर्देश दिया गया है कि प्रतिदिन 10 विद्यालयों को अपने साथ जोड़ें तथा उन्हें ऑनलाइन शिक्षण करने के लिए प्रोत्साहित करें।  जल्द ही  जनपद शामली के परिषदीय विद्यालय के प्रत्येक बच्चे के लिए ऑनलाइन शिक्षण की व्यवस्था  उपलब्ध करा दी जायेगी ।
        उन्होंने बताया कि जनपद शामली के मुख्य रूप से इन विद्यालयों में ऑनलाइन पाठशाला  प्रारम्भ हो गयी है। जिनमें कन्या पूर्व माध्यमिक विद्यालय लिलौन,आदर्श प्राथमिक विद्यालय लांक-1, प्राथमिक विद्यालय  नानुपुरी, पूर्व माध्यमिक विद्यालय गोगवान,पूर्व माध्यमिक विद्यालय मामौर, पूर्व माध्यमिक विद्यालय भैंसवाल, पूर्व माध्यमिक विद्यालय टपराना, पूर्व माध्यमिक विद्यालय लिसाढ़,  प्राथमिक विद्यालय भभीसा  प्राथमिक विद्यालय भारसी 1, प्राथमिक विद्यालय खेडी करमू 1, पू०मा०वि० मसावी, प्राथमिक विद्यालय टिटौली 02, प्राथमिक विद्यालय खुरगान, उच्च प्राथमिक विद्यालय बनत, प्राथमिक विद्यालय सोंटा 01, प्राथमिक विद्यालय बनतीखेड़ा  प्राथमिक विद्यालय हरङ,  प्राथमिक विद्यालय गोमतीपुर,  प्राथमिक विद्यालय देभेरी बुजुर्ग,  उच्च प्राथमिक विद्यालय देभेरी बुजुर्ग,  उच्च प्राथमिक विद्यालय अशरफपुर,  प्राथमिक विद्यालय लपराना, उच्च प्राथमिक विद्यालय लपराना,  उच्च प्राथमिक विद्यालय गागोर, प्राथमिक विद्यालय लहरीपुर,  उच्च प्राथमिक विद्यालय जलालाबाद, प्राथमिक विद्यालय भैंसवाल, प्राथमिक विद्यालय बदलगढ़,  प्राथमिक विद्यालय मुंडेट कला, प्राथमिक विद्यालय मसावी, प्राथमिक विद्यालय हाथी करौदा, प्राथमिक विद्यालय फतेहपुर,  नगर क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय नंबर 9 व 10 आदि शामिल है।
       जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी शामली ने कहा कि इस समय में बच्चों को शिक्षित करने के लिए हमारे अध्यापकों ने यह जो मुहिम शुरू की है यह एक बहुत ही अच्छा सार्थक सामूहिक प्रयास है। सभी अध्यापक एवं जनपद की टीम बधाई की पात्र हैं। मेरा प्रयास है कि इस मुहिम में सभी अध्यापक जुड़े और हमारे जनपद के बच्चे शिक्षा से निरंतर जुड़े रहे ।
    उन्होंने आगे कहा कि मुझे अपने जनपद के  शिक्षा विभाग के अधिकारियों व उनकी टीम  और अध्यापकों पर गर्व है कि वे ऐसी विषम परिस्थितियों में भी अपना योगदान दे रहे।यह बेसिक शिक्षा विभाग जनपद शामली की सराहनीय पहल है।