कैराना तहसील पर सब रजिस्ट्रार व प्रधान लिपिक के न होने कारण
February 16, 2020 • MOHD. IQBAL HASAN
 

-तहसील कैराना का उप निबंधक कार्यालय बना भ्रष्टाचार का अड्डा 
 
-मात्र एक महिला क्लर्क देख रही है दो तहसीले का कार्यभार
 
कैराना। जनपद की कैराना तहसील का उप निबंधक कार्यालय सब रजिस्ट्रार व प्रधान लिपिक आदि के न होने के कारण भ्रष्टाचार का अड्डा बना हुआ है, जहां पर कैराना के साथ-साथ ऊन क्षेत्र के भूमि आदि से संबंधित रजिस्टर्ड होने वाले दस्तावेजों पर अवैध उगाही की जाती हैं।
      गौरतलब रहे कि जनपद शामली मे वर्तमान मे मात्र तीन तहसील शामली, ऊन व कैराना कार्यरत है,जिसमें मात्र दो उप निबंधक कार्यालय कैराना व शामली मे कार्यरत है। ऊन मे तहसील स्थापित होने के पश्चात वहां आज तक भी उप निबंधक कार्यालय स्थापित न होने के कारण वह कैराना मे ही तहसील के उप निबंधक कार्यालय मे ही पिछले कई वर्षो से चला आ रहा है। जहां पर कैराना के साथ-साथ ऊन तहसील क्षेत्र के भूमि व भवन के लेन-देन सहित अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेज रजिस्टर्ड कराये जाते है।  
    तहसील कैराना मे स्थित कार्यालय उप निबंधक मे पिछले लंबे समय से जहां सब रजिस्ट्रार नही है,वही प्रधान लिपिक व अन्य पदों पर कोई नियुक्ति न होने से इस कार्यालय का संचालन मात्र एक महिला  क्लर्क के हाथों मे हैं,ओर वहां प्राईवेट लडके कार्यरत है। ऐसा नहीं है कि इस अहम कार्यालय मे अधिकारी व कर्मचारियों की कमी होने की जानकारी शासन-प्रशासन के अधिकारियों को न हो, लेकिन यह सच है कि उच्चाधिकारियों की कुंभकर्णी नींद के कारण कार्यालय उप निबंधक भ्रष्टाचार का अड्डा बना हुआ है। इस कार्यालय मे प्रत्येक रजिस्टर्ड होने वाली दस्तावेज पर 1 प्रतिशत से लेकर 2 या इससे अधिक प्रतिशत तक अवैध रूप से धन उगाही की जाती है।
इस मुह मांगी अवैध धन उगाही न देने वाले को किसी ना किसी रूप मे भारी परेशानी का सामना करना पडता हैं।
 
इनसैट
 
नाबालिग व बिना लाइसेंसधारी दलाली के खेल में शामिल
कैराना तहसील के उप निबंधक कार्यालय पर जहां लाइसेंसधारी दस्तावेज रजिस्टर्ड कराने के नाम पर अवैध उगाही करते हैं, वही नाबालिग व बिना लाइसेंसधारी दलाल भी पीछे नहीं है, जो भूमि व भवन संपत्तियों की वर्तमान स्थिति न दर्शा कर झूठे तरीके से दस्तावेज को रजिस्टर्ड कराकर सरकार को भारी राजस्व की हानि पहुंचा रहे हैं। इस कार्य के बदले वह पार्टी से मोटी रकम उतार कर अपना उल्लू सीधा करने के साथ ही संबंधित विभाग के अधिकारियों का भी मुंह बंद कर देते हैं।
 
इनसैट
 
ऊन तहसील में उपनिबंधक कार्यालय हेतु ग्रामीण कर चुके हैं आंदोलन
उन तहसील क्षेत्र के ग्रामीण अंचल में रहने वाले ग्रामीणों ने गत वर्ष ऊन तहसील में उपनिबंधक कार्यालय खुलवाने हेतु ऊन तहसील में धरनारत रह चुके हैं अधिकारियों के आश्वासन के पश्चात ग्रामीणों ने अपना धरना उठाया था। लेकिन आज तक उन्हें झूठे आश्वासन के सिवाए कुछ नहीं मिला है। जिस कारण आज भी ऊन तहसील उप निबंधक कार्यालय से वंचित हैं।