पूर्णबंदी लागू होने के बावजूद कोरोना के संक्रमण को रोक पाने में पर्याप्त कामयाबी नहीं!
July 26, 2020 • MOHD. IQBAL HASAN

लोगों में मनमानी और लापरवाही..!

अपील-बेवजह घर से ना निकलने, आपस में कुछ दूरी बनाएं रखें, मुंह और नाक को हमेशा ढक कर रखें, मास्क लगाएं और हाथ ठीक से धोते रहें..


कैराना (शामली)। कोरोना संक्रमण से उपजे संकट पर काबू पाने के लिए जब समूचे देश में पूर्णबंदी लागू की गई थी, तब उम्मीद यही थी कि इसके फैलने पर लगाम लगाई जा सकेगी। लेकिन अब चार महीने के बाद ऐसा लगता है कि पूर्णबंदी लागू होने के बावजूद कोरोना के संक्रमण को रोक पाने में पर्याप्त कामयाबी नहीं मिल पाई है। बल्कि शुरुआती दौर में इसके फैलने के रफ्तार पर जितनी चिंता जताई जा रही थी, आज उसके मुकाबले उसमें कई गुना ज्यादा बढ़ोतरी हो चुकी है। 
          रविवार को आए ताजा आंकड़े के मुताबिक बीते चौबीस घंटे में कोरोना संक्रमण के 48,661 नए मामले सामने आए हैं। और इस वायरस से प्रभावित लोगों की मौत के 705 मामले दर्ज किए गए। अब तक कोरोना से संक्रमितों की संख्या 13,85,522 हो गई है। जिनमें 4,67,882 संक्रमित हैं जबकि 8,85,577 उपचार उपरांत छुट्टी होकर घर लौट गए हैं। जबकि 32,063 की अब तक मौत हो चुकी है। ये आंकड़े अब तक रोजाना आए आंकड़ों के मुकाबले सबसे ज्यादा हैं। इसके साथ ही देश में कोरोना से संक्रमित मरीजों की कुल तादाद तेरह लाख के पार हो गई है और इस बीमारी की चपेट में आकर जान गंवाने वालों की संख्या तीस हजार पर पहुंच गई। संक्रमण और मौतों की अगर यही रफ्तार रही तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि आने वाले चंद दिनों बाद कोरोना के मामले में भारत दुनिया के किस पायदान पर होगा।
      सवाल है कि आखिर बचाव के तमाम और सबसे सख्त कवायदों के बावजूद कोरोना वायरस के संक्रमण के तेजी से फैलने पर काबू पाना मुश्किल क्यों बना हुआ है। इसके फैलने की जो वजहें हैं और अब तक उससे बचाव के जो उपाय बताए गए हैं, क्या उसमें कोई कोताही बरती जा रही है, जिसकी वजह से स्थिति बेलगाम होती जा रही है ? इस वायरस के संक्रमण का जो स्वरूप रहा है, उसके मुताबिक इससे बचने के लिए बेवजह घर से नहीं निकलने, लोगों का आपस में कुछ दूरी बरतने, मुंह और नाक को ढकने के लिए मास्क लगाने और हाथ ठीक से धोने जैसे साधारण उपाय बताए गए थे। इसमें कोई संदेह नहीं कि जब शुरुआत में पूर्णबंदी लागू की गई थी तब लगभग समूचे देश में इसके सावधानी से पालन को लेकर सतर्कता और जागरूकता देखी गई थी। लेकिन ऐसा लगता है कि पूर्णबंदी के लंबा खिंचते जाने के साथ-साथ लोगों के बीच जरूरी सावधानियों को लेकर कुछ लापरवाही आई। खासतौर पर जब से पूर्णबंदी में थोड़ी राहत दी गई, तब से लोगों ने ज्यादा कोताही बरतनी शुरू कर दी। कुछ राज्यों में बचाव के नियमों का पालन कराने और इलाज की समुचित व्यवस्था को लेकर प्रशासन भी चौकस नहीं रहा। तो क्या यही वजह है कि अब संक्रमण की रफ्तार में तेजी आ गई ?हो सकता है कि पूर्णबंदी के लंबा खिंचने के दौर में बहुत सारे लोगों की रोजी-रोटी पर असर पड़ा हो, इसलिए सरकार ने सावधानी बरतने की चेतावनी के साथ पूर्णबंदी में ढील दी। लेकिन इस राहत के बाद लोगों में मनमानी और लापरवाही देखी गई। यह एक बड़े और व्यापक खतरे की अनदेखी है, जो अगर इसी तरह की जाती रही तो आने वाला समय भयावह साबित हो सकता है! इसके संकेत अभी से मिलने लगे हैं जिसमें रोजाना के संक्रमण और मौतों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। बल्कि कई हलकों से सामुदायिक संक्रमण की स्थिति की भी आशंका उभरने लगी है। हालांकि बढ़ते संक्रमण के बीच यह भी तथ्य है कि संक्रमित मरीजों के ठीक होने की रफ्तार बढ़ी है। ये अच्छे संकेत हैं। लेकिन अगर इससे बचाव के इंतजामों में लापरवाही बरती गई तो स्थिति फिर बिगड़ सकती है। इसलिए न केवल सरकार को इस मसले पर गंभीरता बनाए रखने की जरूरत है, बल्कि आम लोगों को भी इससे संबंधित नियमों के पालन को लेकर सतर्क रहना चाहिए।