राष्ट्रीय लोक अदालत में 326 वादों का निस्तारण, 98,400 रुपये का अर्थदंड वसूला
February 8, 2020 • MOHD. IQBAL HASAN
 
- जिला जज की अध्यक्षता में आयोजित हुआ राष्ट्रीय लोक अदालत
कैराना। जिला एवं सत्र न्यायाधीश शामली स्थित कैराना न्यायालय परिसर में आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत के दौरान विभिन्न न्यायालयों में लंबित 326 वादों का निस्तारण किया गया। इस अवसर पर 98,400 रूपये के अर्थदंड की वसूली भी की गई।
   शनिवार को कैराना स्थित जिला एवं सत्र न्यायाधीश शामली स्थित कैराना न्यायालय परिसर में जनपद न्यायाधीश शिव मणि शुक्ल की अध्यक्षता में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। इस अवसर पर प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायालय ज्ञानेन्द्र यादव, अपर जनपद एवं सत्र न्यायाधीश रजत वर्मा, सिविल जज सीनियर डिवीजन कैराना रूचि तिवारी, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट राजमंगल सिंह यादव व सिविल जज जूनियर डिवीजन शामली मुक्ता त्यागी ने अपने-अपने न्यायालयों में लंबित वादों का निस्तारण किया।           
      नोडल अधिकारी लोक अदालत एवं सिविल जज सीनि​यर डिवीजन रूचि तिवारी ने प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत में विभिन्न न्यायालयों में लंबित 326 वादों का निस्तारण किया गया। परिवार न्यायालय से संबंधित 13 मुकदमों का निस्तारण किया गया। विभिन्न दाण्डिक न्यायालयों में 309 मामले सुलह-समझौतों के आधार पर निस्तारित हुए, जिनमें 98,400 रूपये अर्थदंड की वसूली की गई। दीवानी मामलों में चार विवाद सुलह-समझौतों के आधार पर निस्तारित कर दिए गए। वहीं, राष्ट्रीय लोक अदालत में बैंक से कर्ज लिए 140 व्यक्तियों के मामले सुलह-समझौतों के आधार पर समाप्त हुए और लगभग दो करोड़ 57 लाख 47 हजार रूपये धनराशि का सेटलमेंट बैंकों को प्राप्त हुआ। इसमें पंजाब नेशनल बैंक, केनरा बैंक, बैंक आॅफ बड़ौदा व यूनियन बैंक आॅफ इंडिया आदि लगभग दस बैंकों ने भाग लिया।
     उधर, उप जिलाधिकारी कैराना मणि अरोड़ा ने बताया कि कैराना तहसील मुख्यालय पर राष्ट्रीय लोक अदालत के अवसर पर 55 वादों का निस्तारण किया गया जिनमें 50 वाद फौजदारी तथा 5 वाद राजस्व से संबंधित शामिल है।