शामली में इस वजह से शिष्य ने कर दिया मशहूर पाठक परिवार का खात्मा, पुलिस ने किया खुलासा
January 1, 2020 • MOHD. IQBAL HASAN

उत्तर प्रदेश के शामली में चौहरे हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया है. पुलिस के मुताबिक भजन मंडली के शिष्य ने ही गुरु अजय पाठक और उनके पूरे परिवार को मौत के घाट उतारा था. हत्यारा कर्जे के चलते मानसिक रूप से प्रताड़ित था. गुरु से बदला लेने के लिए उसने वारदात को अंजाम दिया.

शामली: मशहूर भजन गायक पंडित अजय पाठक, पत्नी, बेटी और मासूम बेटे की हत्या की वारदात का पुलिस ने खुलासा कर दिया. पुलिस के अनुसार भजन मंडली के शिष्य ने ही गुरु और उनके परिवार की हत्या की थी. उसका 60 हजार रुपए अजय पाठक पर उधार था. उसे मांगने पर अजय पाठक प्रताड़ित किया करते थे. पुलिस ने हत्यारोपी को गिरफ्तार करके हत्या में प्रयुकत चाकू भी बरामद किया है.

मंगलवार को शामली के पंजाबी कॉलोनी स्थित एक मकान में भजन गायक अजय पाठक, पत्नी स्नेहा, बेटी वसुंधरा के खून से लथपथ शव बरामद हुए थे. ट्रिपल मर्डर की वारदात के बाद पाठक के 10 साल का बेटे भागवत के शव को पुलिस ने पानीपत से उनकी ही कार से बरामद कर लिया था. कार को पेट्रोल डालकर जलाने की कोशिश की गई थी. वारदात के पहलुओं को जोड़ते हुए पुलिस ने हत्यारोपी को दबोच लिया. पुलिस ने अजय पाठक की भजन मंडली में काम करने वाले शिष्य हिमांशु सैनी को गिरफ्तार कर बड़ी वारदात का खुलासा किया है.

60 हजार के लिए चार का कत्ल
पुलिस के मुताबिक हिमांशु सैनी अजय पाठक की भजन मंडली में बतौर शिष्य काम करता था. उसकी माली हालत ठीक नहीं थी. बैंक का कर्जा भी था. गुरु अजय पाठक के पास उसके 60 हजार रुपये थे, जिन्हें लौटाने में वे टालमटोल करते रहते थे. हत्यारे ने बताया कि रुपये मांगने पर उसकी बेईज्जती भी की जाती थी. बदला लेने के लिए उसने चौहरे हत्याकांड को अंजाम दिया.

रात को घर में रूका था हिमांशु
हिमांशु वारदात की रात अजय पाठक के घर पर ही रुका था. रात को जब सब सो गए, तो वह पाठक और उनकी पत्नी के कमरे में दाखिल हुआ. सबसे पहले पाठक के गले पर तलवार से वार किए. इसके बाद पाठक की पत्नी को मौत के घाट उतारा. बच्चों के मुंह खोलने के डर से बेटी वसुंधरा और बेटे भागवत की भी हत्या कर दी.

शवों को ठिकाने लगाने की थी योजना
हत्या की वारदात के बाद हिमांशु ने चारों शवों को कार में डालकर ठिकाने लगाने की योजना बनाई थी. सबसे पहले उसने भागवत का शव कार की डिग्गी में डाला, लेकिन अन्य तीन शव भारी होने के कारण नहीं ले जा पाया. वह कार को सोनीपत टोल से होते हुए पानीपत ले गया. यहां पर उसने डिग्गी में भागवत के शव समेत कार को आग लगा दी. उसने वापस घर जाकर माल बटोरने की भी योजना बनाई थी, लेकिन वह सफल नहीं हो सका.

पुलिस को यूं हुआ हिमांशु पर शक
पुलिसिया पड़ताल में घर के आसपास सीसीटीवी में हिमांशु घर से बाहर निकलकर कार ले जाते नजर आ रहा था. पुलिस को घटना की रात हिमांशु के घर में होने की बात पता लगी. इसके बाद हरियाणा के सोनीपत टोल पर कार समेत हिमांशु की सीसीटीवी में फोटो कैद हो गई. पुलिस कार के पास ही हिमांशु को मौके से गिरफ्तार करने का दावा कर रही है.

25 हजार का इनाम
चौहरे हत्याकांड के खुलासे में पुलिस की जल्दबाजी नजर आ रही है. पुलिस के मुताबिक अकेले व्यक्ति ने चार हत्या की. घर से कुछ लूटपाट भी हुई थी, लेकिन पुलिस वह लूटपाट का सामान बरामद नहीं कर पाई है. अधिकारी अभी पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी हासिल नहीं कर पाए हैं, हालांकि वारदात के खुलासे के बाद डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल ने पुलिस टीम को 25 हजार रुपये का इनाम देने की घोषणा कर दी है.

हिमांशु सैनी नामक युवक को गिरफ्तार किया है. आरोपी के कब्जे से चाकू और परिवार के तीन मोबाइल बरामद किए गए हैं. पानीपत से परिवार की ईको कार और डिग्गी से बच्चे की बॉडी भी बरामद हो गई है. हत्यारोपी ने कुछ पैसे अजय पाठक को दे रखे थे. पाठक द्वारा पैसे नहीं लौटाने और बेईज्जती करने के चलते वह मानसिक रूप से परेशान था. इन्हीं वजहों से हत्यारोपी ने वारदात को अंजाम दिया.
-विनीत जायसवाल, पुलिस अधीक्षक, शामली